तूफान ने छोड़े तबाही के निशान, टूटे पेड़ों के नीचे दबे वाहन


0

मुंबई। महाराष्ट्र और गुजरात के तटों की तरफ बढ़ रहा चक्रवात निसर्ग (Cyclone Nisarga) अगले कुुुछ घंटों के अंदर भीषण रूप ले सकता है। ‘निसर्ग’ के मद्देनजर NDRF ने दोनों राज्यों के तटीय जिलों में अपनी 43 टीमें तैनात की हैं। कोरोना महामारी से जूझ रहे मुंबई के लिए निसर्ग भी एक आफत लेकर आ रहा है। चक्रवात निसर्ग (Cyclone Nisarga) के आने की सूचना के बाद कई जिलों में अलर्ट जारी कर दिया गया है। निसर्ग से जुड़ा पल-पल का अपडेट-
– महाराष्ट्र से गुजरा निसर्ग तूफान। 12.30 से 2.30 तक रहा तूफान। अब गुजरात की तरफ बढ़ रहा है
– रत्नागिरि तट के पास से 10 नाविकों को बचाया गया

-तूफान ने छोड़े तबाही के निशान, टूटे पेड़ों के नीचे दबे वाहन
-कार्गो प्लेन फिसलने के बाद शाम 7 बजे तक मुंबई एयरपोर्ट बंद किया गया।

-अलीबाग में तूफान का असर, पत्ते सी उड़ गई बहुमंजिला इमारत की छत।
-मुंबई में कई स्थानों पर पेड़ गिरे। मुंबई के ब्रेबॉर्न स्टेडियम के बाहर पेड़ गिरने से 4-5 गाड़ियां दबी।
-मुंबई में निसर्ग से ज्यादा नुकसान नहीं। तूफान 50 किलोमीटर दक्षिण की तरफ चला गया है।

-रत्नागिरी में भारी बारिश, तूफानी हवाओं से कई पेड़ गिरे।

-नवी मुंबई में भी तेज हवाओं से नुकसान की खबर।

-अलीबाग तट पर टकराया तूफान, 129 साल बाद मुंबई में चक्रवाती तूफान

-महाराष्ट्र में लगभग 3 घंटे तक रहेगा तूफान।

Embedded video

-तेज हुई निसर्ग की रफ्‍तार, 110 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही है हवाएं।
-कुछ ही मिनटों में अलीबाग तट पर टकरा सकता है तूफान, बांद्रा वर्ली सी लिंक पर आवाजाही रोकी गई।
-रत्नागिरी में तेज हवा की वजह से बैंक की छत उड़ी।

Embedded video

-डीजी एसएन प्रधान ने बताया कि  एनडीआरएफ की करीब 43 टीमें तैनात की गई हैं। इनमें 21 टीमें महाराष्ट्र में जबकि 16 टीमें गुजरात में लगाई गई हैं। करीब 1 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।

-एनडीआरएफ के डिप्टी कमांडेंट एके पाठक ने बताया कि दमन में करीब 3000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।

-महाराष्ट्र और गुजरात में तबाही ला सकता है तूफान, समुद्र में ऊंची लहरें उठ रही है। कई स्थानों पर तेज बारिश। आंधी के कारण कई जगहों पर पेड़ उखड़े।

-चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ के राज्य में पहुंचने से पहले गुजरात के वलसाड और नवसारी जिलों के तटीय इलाकों में रहने वाले करीब 43,000 लोगों को वहां से हटा कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।

-अलीबाग से सिर्फ 60 किमी दूर है निसर्ग। मुंबई से 110 किमी दूर।
दोपहर 1 से 4 के बीच मुंबई तट से तूफान के टकराने की आशंका।
-महाराष्‍ट्र के कई इलाकों में तेज बारिश, तूफान के कारण बिजली सप्लाय बंद

-चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ के बुधवार दोपहर महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के अलीबाग पहुचंने से पहले पालघर तट के पास समुद्र में मौजूद मछली पकड़ने की सभी नौकाएं वापस लौट आई हैं।
-पालघर से कम से कम मछली पकड़ने की 577 नौकाएं समुद्र में गईं थी और सोमवार शाम तक 564 वापस आई थीं।
-पालघर में तट के पास डहाणु, पालघर, वसई और तलासरी तहसील में कच्चे मकान में रहने वाले 15,000 से अधिक लोगों को बुधवार सुबह तक वहां से निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया।
-NDRF ने मुंबई में समुद्री इलाकों से 40000 लोगों को सुरक्षित स्थानों से दूर पहुंचाया गया।
-भारतीय मौसम विज्ञान विभाग की मुंबई इकाई के उप महानिदेशक के. एस. होसालिकर ने बताया कि चक्रवात अलिबाग के दक्षिण के पास से 100-110 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से गुजरेगा और इस दौरान 120 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से हवाएं चलेंगी।
-गोवा में बुधवार को सुबह भारी बारिश, निचले इलाके में बाढ़ जैसी स्थिति।
-मुंबई में 20 से 40 मिलीमीटर बारिश हुई जबकि पिछले 12 घंटे में कई स्थानों पर हल्की बारिश हुई है।
-मुंबई और ठाणे, रायगढ़ तथा पालघर जैसे पड़ोसी जिलों में भारी बारिश की चेतावनी दी।

-सायन, वडाला, दादर, माटुंंगा, परेेेल समेत कई इलाकों में बारिश जारी।

-महाराष्‍ट्र, गुजरात और गोवा के लिए रेट अलर्ट जारी।
-निसर्ग चक्रवाती तूफान के चलते मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज इंटरनेट एयरपोर्ट पर 3 जून को सिर्फ 19 फ्लाइट की ही मूवमेंट होगी।
Cyclone Nisarga

– इसमें 11 फ्लाइट डिपार्चर होंगी और 8 फ्लाइट एरायवल (आगमन) होंगी। मुंबई एयरपोर्ट पर सिर्फ 5 एयरलाइंस कंपनियों की फ्लाइट ही बुधवार ऑपरेशनल रहेंगी।

जिसमें एयर एशिया इंडिया, एयर इंडिया, इंडिगो, गोएयर और स्पाइस जेट एयरलाइंस शामिल हैं।

-महाराष्‍ट्र के उत्तर रत्नागिरी में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश

-चक्रवात ‘निसर्ग’ के पहुंचने से पहले मुंबई समेत कई इलाकों में तेज बारिश
-अगले 6
घंटे के दौरान एक गंभीर चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना है
-चक्रवात ‘निसर्ग’ के कारण सुदूरवर्ती क्षेत्रों में भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है
nisarga

-चक्रवाती तूफान के कारण गुजरात में 1,727 गांवों को पहले ही खाली करा लिया गया है

-वलसाड, सूरत, नवसारी और भरुच जिलों में 78,971 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा जाएगा
-लोगों को रखने के लिए 140 इमारतों की पहचान अस्थायी आश्रय शिविर के तौर पर की गई है
-राहत टीमों के सदस्यों को व्यक्तिगत रक्षा उपकरण (पीपीई) किट उपलब्ध कराया गया है
-आश्रय गृहों में रहने वाले लोगों को मास्क मुहैया कराने, सामाजिक दूरी बनाए रखने के निर्देश
-पूर्व-मध्य अरब सागर के ऊपर बना कम दबाव का क्षेत्र वर्तमान में सूरत से लगभग 670 किमी दूर
-12 घंटों में यह प्रचंड चक्रवाती तूफान में बदलेगा और हवा की गति
100 से 110 किमी प्रति घंटा होगी
-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी तथा दमन दीव दादरा और नगर हवेली के प्रशासक प्रफुल्ल के. पटेल से चक्रवात की स्थिति को लेकर बात की
– पीएम की लोगों से अपील, चक्रवात ‘निसर्ग’ से रहें सावधान।

Like it? Share with your friends!

0
Rahul Pathak

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *